Print

ई.मेल द्वारा भेजे गये शिक्षक स्थानांतरण आवेदन ​नहीं हो पा रहे हैं रिसीव, सम्भवतया ई.मेल हेतु गूगल से स्पेस खरीदना भूला शिक्षा विभाग

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—1 on . Posted in शिक्षा समाचार

बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। राज्य सरकार द्वारा बैन हटाने के बाद से जहाँ एक ओर शिक्षा विभाग में कार्यरत शिक्षक खुश है तथा उनमें आशा की किरण देखने को मिल रही है वहीं दूसरी ओर ई.मेल द्वारा प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय,बीकानेर को स्थानांतरण आवेदन भेजने वाले शिक्षकों को एक अप्रत्याशित परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। दरसल शिक्षा विभाग ने शिक्षकों से 20 अप्रेल 2018 तक स्थानांतरण आवेदन मांगें हैं। स्थानांतरण आवेदन जमा कराने के दो विकल्प शिक्षकों को दिए गए हैं प्रथम विकल्प के तहत इच्छुक शिक्षक व्यक्तिगत रूप से प्रारम्भिक शिक्षा निदेशालय के कमरा नम्बर 3 में आवेदन पत्र जमा करा कर रसीद प्राप्त कर सकता है जबकि दूसरे विकल्प के तहत शिक्षक अपना स्थानांतरण आवेदन कार्यालय की ई.मेल आई.डी. This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भिजवा सकता है और हार्ड कॉपी निदेशालय को भिजवा सकता है। शिक्षकों को अनावश्यक परेशानियों से बचाने के लिए ही ई.मेल का विकल्प रखा गया था परन्तु शायद विभाग इस मेल आई.डी. के लिए गूगल से उचित स्पेस खरीदना ही भूल गया है परिणामस्वरूप इस मेल आई.डी. पर उपलब्ध 15 जी.बी.की फ्री स्पेस पूर्ण होते ही इस मेल आई.डी. का इनबॉक्स संभवतया भर गया है और स्थानांतरण के इच्छुक शिक्षकों के आवेदन इस मेल आई.डी. पर रिसीव होने की बजाय गूगल द्वारा इस मैसेज के साथ वापस लौट रहे हैं कि The email account that you tried to reach is over quota. । शिक्षकों के सामने आई इस अप्रत्याशित समस्या के कारण ई.मेल.द्वारा आवेदन भेजने वाले हजारों शिक्षकों में चिंता फैल रही है। जिम्मेदार अधिकारियों को चाहिए कि इस मेल आई.डी. हेतु अविलम्ब उचित स्पेस खरीदे। मात्र 1200 रूपये में 100 जीबी स्पेस आ सकती है जोकि स्थानांतरण की आस लगाये शिक्षकों की परेशानी व चिंता की तुलना में नगण्य है। इस समस्या से जूझ रहे एक शिक्षक ने बैस्ट रिपोर्टर को बताया कि अब तक वे कई बार ई.मेल भेज चुके हैं परन्तु हर बार वो वापस लौट आता है,परेशानी ये है कि लौटने की सूचना भी तुरन्त नहीं मिलती वरन् 15 से 24 घंटे बाद मिलती है। बैस्ट रिपोर्टर न्यूज आशा करता है कि विभाग के जिम्मेदार अधिकारी इस समस्या का अविलम्ब समाधान करेंगें ताकि न केवल शिक्षकों को परेशानी से बचाया जा सके वरन् निदेशालय प्रारम्भिक शिक्षा,बीकानेर पर भी अनावश्यक भीड़ व मारामारी से बचा जा सके।