Print

दलितों की सहभागिता की नींव पर तैयार हुई नाथ पंथ की स्थापना,

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in बैस्ट रिपोर्टर एक्सक्लूसिव

दलितों की सहभागिता की नींव पर तैयार हुई नाथ पंथ की स्थापना,

मंदिरों में दलितों के प्रवेश को लेकर देशभर में छिड़ी बहस के बीच गोरखनाथ मंदिर की सामाजिक समरसता वाली अलौकिक ख्याति का बखान मौजूद है। जो नहीं जानते हैं, उन्हें यह बताना जरूरी लगता है कि नाथ पंथ की स्थापना दलितों की सहभागिता की नींव पर तैयार हुई है। गुरु गोरक्षनाथ ने कर्मकांडीय उपासना पद्धति के सामानांतर जिस तरह से योग को स्थापित किया, उससे सामान्य जन में वह तो लोकप्रिय हुए ही, उनका पंथ भी लोगों के दिलों में गहरे पैठ गया। ऐसे में जाति ही नहीं मजहबी दीवार भी टूट गई और बड़ी संख्या में दलित ही नहीं मुस्लिम भी नाथ पंथ का हिस्सा हो गए। अगर यह कहा जाए कि नाथ पंथ के मंदिर दलित समूहों के धार्मिक केंद्र के रूप में भी प्रचलित हुए तो कतई गलत नहीं होगा। वंचित और शोषितों के सहयोग से स्थापित हुआ नाथ पंथ आज समृद्धि के उस मुकाम पर पहुंच गया है जहां मंदिर में दलितों के प्रवेश की बात तो छोडि़ए इस पंथ के पुजारी और भंडार गृह में प्रसाद बनाने वालों में कई दलित भी हैं। नाथ पंथ के इतिहास में जाएं तो गुरु गोरक्षनाथ ने जिस बारहपंथी समाज की नींव रखी, उससे हर जाति,

Print

आखिर कानून के शिकंजे से क्यों बच जाते है कश्मीर के पत्थरबाज?

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in बैस्ट रिपोर्टर एक्सक्लूसिव

आखिर कानून के शिकंजे से क्यों बच जाते है कश्मीर के पत्थरबाज?

नई दिल्लीः जम्मू कश्मीर में भारतीय सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी करने वालों को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बड़ा बयान दिया है. बता दें कि इस साल अक्टूबर तक आतंकियों ने 284 बार घुसपैठ की कोशिश की, जिसमे 128 बार आतंकी देश की सीमा में घुसने में कामयाब हो गए. पिछले साल 113 बार आतंकी देश की सीमा में घुसने में कामयाब हुए थे. गृह मंत्रालय ने कश्मीर की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि हमारे संविधान में सेना-सुरक्षाबलों के जवानों पर पत्थबाजी करने और देश विरोधी नारे लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने का कोई विशेष प्रावधान नहीं है. गृह मंत्रालय के मुताबिक पिछले दो दशकों से भी ज्यादा समय से जम्मू कश्मीर सीमा पार से प्रायोजित आतंकवाद और अलगाववादी हिंसा से प्रभावित रहा है. देश विरोधी और अनैतिक गतिविधियों में शामिल लोगों ने कुछ स्थानीय नागरिकों को भी बहका दिया है. गौरतलब है कि पाकिस्तान की मदद से जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों के ख़िलाफ हो रहे आतंकी हमलों की संख्या में जबरदस्त बढ़ोतरी हो रही है. संसद में पेश गृह मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस सा

Print

SBI ने किया अलर्ट! 28 नवंबर तक नहीं किया ये काम तो बंद हो जाएगा ATM कार्ड

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in बैस्ट रिपोर्टर एक्सक्लूसिव

SBI ने किया अलर्ट! 28 नवंबर तक नहीं किया ये काम तो बंद हो जाएगा ATM कार्ड

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) अपने ग्राहकों को एक खास SMS भेज रहा है. बैंक ने मैसेज में एटीएम कार्ड को लेकर जानकारी दी है. अगर कोई ग्राहक 28 नवंबर तक अपना एटीएम नहीं बदलवाता है तो उसका एटीएम कार्ड (डेबिट कार्ड) ब्लॉक कर दिया जाएगा. आपको बता दें कि बैंक ग्राहकों को बेहतर सर्विस और उनके पैसों की सुरक्षा के लिए यह कदम उठा रहा है.बैंक ने भेजा खास एसएमएस- बैंक का कहना है कि 28 नवंबर 2018 से एसबीआई मैजिस्ट्रिप (मैग्नेटिक) डेबिट कार्ड ब्लाॉक हो जाएगा. आपके पते पर भेजा गया ईएमवी कार्ड जल्दी एक्टिवेट कर लीजिए. बैंक का कहना है कि ऐसा आरबीआई की जारी गाइडलाइंस पर किया जा रहा है.आपको बता दें कि पुराने कार्ड मैजिस्ट्रिप (मैग्नेटिक) डेबिट कार्ड है. इनके बदले में बैंक नए जमाने के चिप वाले ईएमवी कार्ड दे रहे है. बैंक ने अपने सभी ग्राहकों को 31 दिसंबर तक कार्ड बदलने की डेडलाइन दी है.अगर आपके पास भी अपने पुराने मैजिस्ट्रिप (मैग्नेटिक) डेबिट कार्ड है तुरंत बदल लीजिए क्योंकि पुराने कार्ड बंद हो रहे हैं. इसके बदले ग्राहकों को ईएमवी

Print

बदल गए PAN कार्ड के ये तीन नियम, नहीं जानने पर फंस सकते हैं आप!

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in बैस्ट रिपोर्टर एक्सक्लूसिव

बदल गए PAN कार्ड के ये तीन नियम, नहीं जानने पर फंस सकते हैं आप!

आप अपना PAN कार्ड बनवाने जा रहे है तो ये खबर आपके लिए बेहद जरूरी है, क्योंकि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने PAN कार्ड के नियमों में बदलाव करने का फैसला लिया है. टैक्स डिपार्टमेंट के मुताबिक, अब पैन कार्ड अप्लाई करने के लिए पिता-माता के अलग होने की स्थिति में पिता का नाम देने की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है. आयकर विभाग ने एक अधिसूचना के जरिये आयकर नियमों में संशोधन किया है. आइए जानें और क्या हुआ बदलाव...आईटी विभाग ने एक वित्त वर्ष में 2.5 लाख रुपये से अधिक का वित्तीय लेन-देन करने वाली नॉन-इंडीविजुएल एंटिटीज के लिए पैन कार्ड के लिए आवेदन करने को अनिवार्य कर दिया है. ऐसी एंटिटीज को अगले वित्त वर्ष की 31 मई तक पैन के लिए आवेदन कर देना होगा.इसके अलावा कोई भी ऐसा व्यक्ति, जो एक वित्त वर्ष में 2.5 लाख रुपये से ज्यादा का ट्रांजेक्शन करने वाली नॉन-इंडीविजुअल एंटिटी का मैनेजिंग डायरेक्टर, डायरेक्टर, पार्टनर, ट्रस्टी, लेखक, फाउंडर, कर्ता, सीईओ, प्रिन्सिपल आॅफिसर या आॅफिस बीयरर है या अन्य किसी भी तरह से ऐसी एंटिटीज की ओर से जिम्मेदार है और पैन नहीं र

Print

शक्तिशाली होते हुए भी कौरव कर बैठे यह पांच बड़ी चूक और हार गए युद्ध...

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in बैस्ट रिपोर्टर एक्सक्लूसिव

शक्तिशाली होते हुए भी कौरव कर बैठे यह पांच बड़ी चूक और हार गए युद्ध...

महाभारत युद्ध को भारत की भूमि कुरुक्षेत्र में लड़ा गया था। कौरवों और पांडवों की सेना भी कुल 18 अक्षोहिनी सेना थी जिनमें कौरवों की 11 और पांडवों की 7 अक्षौहिणी सेना थी। एक अक्षौहिणी में 21870 हाथी, 21870 रथ, 65610 घोड़े और 109350 पैदल होते थे। कौरव पक्ष में एक से बड़कर एक महान योद्धा थे लेकिन फिर भी कौरव हार गए इसका क्या कारण था? आओ जानते हैं पांच बड़े कारण।

1.पहली सबसे बड़ी चूक

जब युद्ध तय ही हो गया तो दुर्योधन श्रीकृष्ण से सहायता मांगने हेतु द्वारिका जा पहुंचा। उस वक्त श्रीकृष्ण सोए हुए थे तो दुर्योधन उनके सिरहाने जा बैठा। इसके बाद ही अर्जुन भी इसी कार्य हेतु पहुंचा और वे उनके पैरों के पास जा बैठा। जब श्रीकृष्ण की आंख खुली तो उन्होंने सबसे पहले अर्जुन को देखा। अर्जुन से कुशल क्षेम पूछने के भगवान कृष्ण ने उनके आगमन का कारण पूछा। अर्जुन ने कहा, 'भगवन्! मैं भावी युद्ध के लिए आपसे सहयोग लेने आया हूं।' अर्जुन के इतना कहते ही सिरहाने बैठा दुर्योधन बोला, हे कृष्ण! मैं भी आपसे सहायता के लिए आया हूं। चूंकि मैं अर्जुन से पहले आया हूं इसलिए मां