Print

दुर्लभ जी हॉस्पिटल ने पॉच साल के बच्चे का जीवन बचाया वी एक्मो के द्वारा

Written by कार्यालय,बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर। समाचार डेस्क प्रभारी—2-पी.सी.योगी on . Posted in चिकित्सा एवं स्वास्थ्य समाचार

बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर (आशा पटेल)। दुर्लभ जी हॉस्पिटल के द्वारा मानसरोवर निवासी 5 वर्षीय बच्चे को एक्मों करके दिया नया जीवन। डॉ. रवि शर्मा पिडियेट्रिक इन्टेन्सिविस्ट दुर्लभजी हॉस्पिटल ने बताया की मानसरोवर निवासी 5 वर्षिय शुभम (परिवर्तित नाम) को सर्दी खासी, जुखाम की षिकायत होने पर पास के अस्पताल में दिखाया गया। जहॉ उसे कमजोरी व भूख नहीं लगने की शिकायत हुई। जिसके कारण उसे दुर्लभ जी हॉस्पिटल में रैफर कर दिया गया जो उसका जीवन बचाने के लिए निर्णायक सबित हुआ। मरीज को हॉस्पिटल के आपातकालीन विभाग में डॉ. राजीव बंसल, शिशु रोग विशेषज्ञ की युनिट में भर्ती किया गया।

डॉ. राजीव बंसल ने बताया की बच्चे के वाईटल्स भी बदले हुये थे व हार्ट का ईएफ जी 20 प्रतिशत ही रह गया था जो की एक सामान्य आदमी का 60 प्रतिशत व उससे अधिक होता है। 20 प्रतिशत ईएफ रहने पर विज्ञान की भाषा में जानलेवा हो सकता है। बच्चे का ईएफ इतना कम होने का कारण था उसके हार्ट के बायें चैम्बर का फेल होना था।

डॉ. रवि ने बताया की इन सबके कारण उसके शरीर के अन्य अंग भी कम काम करने लगे व उसके पेशाब की मात्रा भी सामान्य से कम हो गई और उसके गुर्दा व हार्ट का काम करना भी कम हो गया। और उसे कार्डियक अरेस्ट आया जिसकी वजह से उसे तीन बार जीवन रक्षक इलेक्ट्रिक शॉक लगाये गये लेकिन जब इन सबसे बात नहीं बनी तो 14 मई को परिजनों को समझााने के बाद उसे इन सबके बाद परीजनों के सहमती से डॉ. नीरज शर्मा, विभागाध्यक्ष कार्डियक सर्जरी दुर्लभजी हॉस्प्टिल के नेतृत्व में वीए एक्मो किया गया। जिसमें बच्चे के हार्ट को एक मषीन के द्वारा चलाया गया। इससे हार्ट को आराम मिला और 6 दिन तक बच्चे को एक्मो पर ही रखा गया इसके बाद एक्मों हटाकर उसे कुछ दिन वेंटिलेटर पर रखा।  

इस अवसर हॉस्पिटल के सचिव श्री योगेन्द्र दुर्लभ जी ने बताया की इस तरह के जीवन रक्षक उपचार केवल अन्तराष्ट्रिय स्तर की सुविधाओं वाले हॉस्पिटल में ही उपलब्ध हो सकते है। हम चिकित्सा के क्षैत्र में शुरु से ही अग्रणी रहे है। इस कारण हमारे अनुभवी चिकित्सकों ने इस उपचार में सफलता प्राप्त की है मैं उन सबको इसकी बधाई देता हॅु।
 इस उपचार की टीम में थे - राजीव बंसल विभागाध्यक्ष बाल एंव शिशु रोग, डॉ. नीरज शर्मा विभागाध्यक्ष कार्डियक सर्जरी, एक्मो किया, डॉ. रवि शर्मा इन्टेसिविस्ट